September 24, 2017

भड़के अभिभावकों ने स्कूल के पास स्थित शराब के ठेके में लगाई आग

Janmat News

Janmat News

गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल के दूसरी कक्षा के छात्र प्रद्युम्न की हत्या के बाद नाराज अभिभावक आज भी स्कूल के बाहर पहुंचे हैं। अभिभावक स्कूल प्रशासन के खिलाफ मामला दर्ज करने और छात्र की हत्या की जांच सीबीआई से कराने की मांग कर रहे हैं। अभिभावकों इस बात को लेकर भी परेशान हैं कि सोमवार से वे अपने बच्चों को इस स्कूल में भेजें या नहीं। आपको बता दें कि शुक्रवार को सात साल के मासूम प्रद्युम्न की लाश स्कूल के बाथरूम से मिली। इस मामले में पुलिस ने स्कूल के बस कंडक्टर अशोक को गिरफ्तार किया।

 

सात दिन में दाखिल होगा आरोपपत्र

पुलिस ने गुरूग्राम के एक स्कूल में सात साल के बच्चे की निर्मम हत्या के मामले में जांच पूरी कर सात दिन के अंदर आरोपपत्र दाखिल करने का वादा किया। गुड़गांव के भोंडसी स्थित रयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी कक्षा के सात वर्षीय छात्र की हत्या की घटना से पूरा देश स्तब्ध रह गया था।

जिला प्रशासन ने यह जांच करने के लिए तीन सदस्यीय एक पैनल बनाया है कि क्या कहीं स्कूल ने सुरक्षा मानकों का उल्लंन तो नहीं किया था।
इस बीच, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली हरियाणा सरकार ने प्रदेश के सभी स्कूलों की सुरक्षा की समीक्षा करने के आदेश दिए हैं।
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने भी  मामले में जांच के लिए शनिवार को दो सदस्यीय समिति का गठन किया और स्कूल प्रबंधन से दो दिन के भीतर रिपोर्ट मांगी।

बच्चा शुक्रवार को स्कूल के शौचालय में मृत मिला था। उसकी गला रेता गया था। बच्चों के अभिभावकों के रोष के बाद सीबीएसई ने जांच समिति बनाने का कदम उठाया है। गुड़गांव के पुलिस आयुक्त संदीप खीरवार ने दावा किया कि इस जन्य अपराध में, गिरफ्तार किए गए स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार की संलिप्तता सामने आई है।

उन्होंने बताया कि अशोक कुमार यौन उत्पीड़न करने के इरादे से शौचालय के अंदर किसी छात्र के आने का इंतजार कर रहा था। पीड़ित बच्चा शौचालय में गया। उसने कुमार की हरकत का विरोध किया जिसके बाद कुमार ने उसकी हत्या कर दी। बच्चे का गला कटा हुआ था।

पुलिस करेगी फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई की मांग
खीरवार ने बताया कि कुमार ने कहा कि वह डर गया था और यह सोच कर उसने बच्चे को मार डाला कि कहीं वह स्कूल के प्रबंधन को अपराध के बारे में न बता दे। वह चाकू को शौचालय में ही छोड़ गया। वहां से जाने से पहले उसने हाथ भी धोए। यह सुनियोजित तरीके से किे उन्होंने बताया कि पुलिस मामले की जांच पूरी कर सात दिन के अंदर आरोपपत्र दाखिल कर देगा। खीरवार ने कहा कि इस मामले में हम शीघ्र सुनवाई के लिए विशेष अदालत गठित करने की मांग करेंगे ताकि आरोपी को कड़ी सजा मिल सके।

अधिकारी ने बताया कि कुमार के कपड़े, हत्या में प्रयुक्त चाकू को फॉरेन्सिक जांच के लिए भेजा गया है। उसकी तीन दिन की पुलिस रिमांड के दौरान हम अपराध के क्रम के बारे में फिर से पूछताछ करेंगे और हर पहलू की जांच करेंगे। इससे पहले, एक स्थानीय अदालत ने दिन में कुमार को तीन दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया। खीरवार ने आश्वसन दिया कि गहन और पेशेवर तरीके से जांच की जाएगी।

अपराधी ने कबूला गुनाह
कुछ टीवी चैनलों ने आरोपी से सवाल पूछे और जानना चाहा कि क्या उसने अपराध को अंजाम दिया। इस पर आरोपी ने हां में जवाब दिया। हत्या का कारण पूछे जाने पर उसने कहा कि मैं अपना विवेक खो चुका था। चाकू के बारे में पूछने पर उसने बताया कि स्कूल बस में चाकू हमेशा होता था और वह उसे धोने के लिए गया था।

अभिभावक ने की सीबीआई जांच की मांग
इस बीच, बच्चे के परिवार वालों ने असंतुष्टि जाहिर करते हुए पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। मृतक की मां ने संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाया कि स्कूल ने उन्हें तब सूचित किया जब बच्चा बेहोश हो कर गिर गया था। उन्होंने घटना की सीबीआई जांच की मांग की।

गुस्साए परिजनों ने सीबीआई जांच की मांग करते हुए स्कूल परिसर के बाहर प्रदर्शन किया। यह लोग स्कूल प्रबंधन के खिलाफ भी मामला दर्ज करने की मांग कर रहे थे।

तीन सदस्यीय पैनल का गठन 
संवाददाता सम्मेलन में खीरवार ने कहा कि तीन सदस्यीय एक पैनल गठित किया गया है जो यह जांच करेगा कि कहीं स्कूल प्रबंधन की ओर से सुरक्षा में कोई खामी तो नहीं थी। पैनल में जिला शिक्षा अधिकारी, ब्लॉक शिक्षा अधिकारी और महिला एवं बाल विकास विभाग का एक अधिकारी शामिल है। उन्होंने बताया कि पैनल सोमवार को अपनी रिपोर्ट देगा और उसके आधार पर समुचित कार्रवाई की जाएगी।

सुरक्षा एजेंसी का रजिस्ट्रेशन रद्द, प्रिंसिपल सस्पेंड
खीरवार ने कहा कि स्कूल प्रबंधन ने जिस सुरक्षा एजेंसी की सेवाएं ली थीं उस सुरक्षा एजेंसी का पंजीकरण रद्द कर दिया गया है। आज दिन में रेयान इंटरनेशनल स्कूल की कार्यवाहक प्रधानाचार्य नीरजा बत्रा को निलंबित कर दिया गया और पूरे सुरक्षा स्टाफ को हटा दिया गया। जिला जनसंपर्क अधिकारी आर एस सांगवान ने बताया कि रयान इंटरनेशनल स्कूल के प्रबंधन ने कार्यवाहक प्रधानाचार्य नीरजा बत्रा को निलंबित कर दिया और पूरे सुरक्षा स्टाफ को हटा दिया है।

 भोंडसी में हुआ अंतिम संस्कार
पोस्टमार्टम के बाद बच्चे का शव उसके परिजनों को सौंप दिया गया। भोंडसी में बच्चे का अंतिम संस्कार किया गया। वहां सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद थे। लोगों ने गुड़गांव के विधायक उमेश अग्रवाल, सोहना के विधायक तेजपाल और हरियाणा के लोक निमार्ण मंत्री राव नरबीर सिंह के खिलाफ नारे लगाए। यह लोग बच्चे के अभिभावकों को सांत्वना देने आए थे। बच्चे के पिता गुड़गांव की एक निजी कंपनी में काम करते हैं। उन्होंने स्कूल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

पूरी तरह कटा था गला
बच्चे के शव का पोस्टमार्टम फॉरेन्सिक विशेषज्ञ दीपक माथुर ने किया। उन्होंने बताया कि बच्चे की गर्दन में दो कट लगे थे। उसका गला लगभग पूरी तरह कटा हुआ था। अत्यधिक रक्तस्राव के कारण उसकी मौत हुई। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर ने इस घटना को  घजन्य एवं दुभार्ग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने बताया कि संबद्ध अधिकारियों को इस सिलसिले में औपचारिकताएं पूरी करने और सात दिनों में चालान दाखिल करने को कहा गया है।

राज्य के स्कूलों की सुरक्षा की होगी समीक्षा    
खट्टर ने कहा कि हम आरोपी को यथाशीघ्र सख्त सजा देने की अदालत से अपील करेंगे। इस मामले में तेजी से कार्रवाई करने के लिए जिला प्रशासन की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि स्कूल बस कंडक्टर को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने समूचे राज्य के स्कूलों में सुरक्षा बंदोबस्त की समीक्षा करने और उसे मजबूत करने का आदेश दिया।

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावडेकर ने इस घटना को दुभार्ग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि उनका मंत्रालय इस मामले की जांच कर रहा है और इस मामले में इंसाफ होगा। घटना के विरोध में पूरे शहर में जगह जगह प्रदर्शन हुए और यातायात बाधित हुआ। दिल्ली जयपुर राजमार्ग, अलवर सोहना रोड और कई सड़कों पर प्रदर्शन के कारण यातायात बाधित रहा।

इस बीच, रयान इंटरनेशनल स्कूल ने एक बयान जारी कर कहा कि हमारे स्कूल में कल हुई त्रासदी घटना के बाद स्कूल प्रशासन ने संस्थान में सुरक्षा उपायों की गंभीरतापूर्वक समीक्षा की है। विशेषज्ञों की मदद से सभी आवश्यक सुधारों और कदमों की जांच की जा रही है और उन्हें लागू किया जा रहा है।

बयान में कहा गया है कि हम पुलिस विभाग से भी इस संबंध में मार्गदर्शन के लिए सलाह ले रहे हैं। आगे बयान में कहा गया है कि अपने प्यारे छात्र को खो कर हम स्तब्ध और दुखी हैं। अपने सभी छात्रों और स्टाफ की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हम यह कदम उठा रहे हैं। हम जांच अधिकारियों के साथ करीबी से काम कर रहे हैं ताकि उनकी विशेषज्ञता के लिए हमें आगे मार्गदर्शन मिल सके। सीबीएसई ने बताया कि उसने घटना की जांच के लिए एक तथ्य अन्वेषण समिति गठित की है।

About The Author

Related posts